साथ "तुमने न निभाया"!

February 25, 2018

कभी सर पर मेरे जादू तेरी नजरों का डोले है, न जानें क्यों पवन में आज ले रहा मन हिचकोले है। न भटका था,न भटका हूँ, न भटका ही मैं रहूँगा, कि मौसम आज ये मेरे पट अंतर्मन के खोले है।। तेरी नजरों ने हमें मारा था तेरी मुस्कान पे वारे थे, तेरी जुल्फों के […]

साथ "तुमने न निभाया"!

February 25, 2018

कभी सर पर मेरे जादू तेरी नजरों का डोले है, न जानें क्यों पवन में आज ले रहा मन हिचकोले है। न भटका था,न भटका हूँ, न भटका ही मैं रहूँगा, कि मौसम आज ये मेरे पट अंतर्मन के खोले है।। तेरी नजरों ने हमें मारा था तेरी मुस्कान पे वारे थे, तेरी जुल्फों के […]

Skip to toolbar